Posts

Showing posts from 2020

Father's Day shayari, shayri for father

Image
Sah liya har zulm meri khushiyon ki khatir
Jalai har baar apni khwahishon ki chita hai


Bhul kar bhi bhul nhi skta ahsaan kabhi
Meri tarakki ki tamanna me jaagte din raat mere pita hai

Maa shayari | mother's Day shayari| shayari for mother

Image
Meri ik aah par cheekh padti hai
Utha leti sar par sara jahan hai


Chhipa ke rakh leti hai dard apna
Mere har marz ki dawa meri maa hai

Maa shayari | mother's Day shayari| shayari for mother

Image
Sab kuch hai mayassar jamane me yun to
Maa bina kuch nhin, maa mera sab hai


Uski duaon se duniya meri roshan
Maa se hai khushiyan meri, maa mera rab hai

Baarish shayari | बारिश शायरी

Image
Lagi hai aag dil mein, bhadki koi chingaari hai
Baadlon ki hai saazish, ya bundon ki tarafdaari hai


Bheega hai sahar saara, jal raha dil magar
Mausam haseen hai aur baarish ka daur jaari hai

Barish shayari | बारिश शायरी

Image
Mumkin hai ki aayega rooh ko sukun ab Jazbaaton me bheeg jaane ki gujarish aai hai

Kar degi tar batar dil ke har ik kone ko Bahut dino bad mere sahar me barish aai hai

कहीं रोग जल रहें हैं | kahin rog jal rhe hain

Image
Kahin deeye jal rhe hain
Kahin log jal rahe hain


Kahin jal rhi ranjishein
Kahin rog jal rhe hain

Insaan hi insaan ke kaam aayega | इंसान ही इंसान के काम आयेगा

क्यूँ खेल रहा है मजहबी खेल फ़ितरत से बाज़ आ अपनी
तुझे बचाने ना अल्लाह आयेगा ना कोई भगवान आयेगा



तु लाख पढ़ ले गीता कुरान नहीं आयेगा फरिश्ता कोई
बात जब जान पर आयेगी इंसान के काम इंसान आयेगा

.
.
.
 Kyun khel rha h majhabi khel fitrat se baaj aa apni
Tujhe bachaane na allaah aayega na koi bhagwan aayega


Tu lakh padh le geeta quraan nhin aayega farishta koi
Baat jab jaan par aayegi insaan ke kaam insaan aayega

मर्ज शायरी, दहशत शायरी, वहशत शायरी | marj shayari, dahshat shayari, vahshat shayari

Image
मर्ज तेरे इश्क़ का भी था जानलेवा मगर
मंजर हसीन था इस कदर वहशत नहीं थी 


आई थी क़यामत भी दौर ए इश्क़ कई दफ़ा 
खौफ़ क़ुर्बत से नहीं था दिल मे दहशत नहीं थी 


मर्ज - रोग
वहशत - पागलपन, उज्जडपन
क़यामत - प्रलय, doomsday
क़ुर्बत - नजदीकी



Marj tere ishq ka bhi tha janleva magar
Manjar haseen tha is kadar vahshat nhin thi


Aai thi qayamat bhi daur e ishq kai dafa
Khauff qurbat se nahi  tha dil me dahshat nhin thi

Aab o hawa shayari, आब ओ हवा शायरी

Image
बाद ए सबा - winds of morning
मयस्सर -  available
.
.

 Ajnabi hai is sheher ki aab o hawa
Mere chaahne wale shayad kahin or rhte hai



Yahan sukun hai baad e saba bhi hai mayassar
Dil ko jalaane wale shayad kahin or rahte hai

Hayaat shayari | हयात शायरी

गुज़र रही ग़ुमनाम सी तन्हाई मे
क्या बताएं हालात ए हयात क्या है


कभी जो देख कर भर लेते थे बाहों मे
आज दूर से पूछ रहे हैं बात क्या है

हयात - जिंदगी
........ 
Gujar rahi gumnaam sir tanhaai me Kya batayein halaat e hayaat kya hai

Kabhi jo dekh kar bhar lete the bahon me Aaj door se puchh rhe hain baat kya hai

Intezaar e Ishq shayari | इंतज़ार ए इश्क़ शायरी

Image
Haasil nhi sukoon e dil kahin
Shaame khali hai gardishon bhari shab hai


Muddat se chal rha intezar e ishq
Koi bataaye aagaaj e ishq kab hai

Barish shayari | बारिश शायरी | बरसात शायरी|barsaat shayari

चलने लगी है हवाएँ बेतहाशा आजकल
आंधियों का आना रोज का काम हो गया

तुम थे तो बरसती थी तरसा तरसा कर
तुम नहीं हो तो बारिश का आना आम हो गया 
...... Chalne lagi hai hawayein betahasha aajkal Aandhiyon ka aana roj ka kaam ho gya

Tum the to barsati thi tarsa tarsa kar Tum nahi ho to barish ka aana aam ho gaya

माँ शायरी | shayari on mother| mothers day shayari| maa shayari

टूट के गिरता हूँ फिर संभल जाता हूं उसे देख कर जाँ में जाँ आती है

भूल जाता हूं ग़म ज़माने भर के
मुस्कुराते हुए सामने जब माँ आती है

........
Toot ke girta hun fir sambhal jata hun
Use dekh kar jaan me jaan aati hai

Bhool jata hun gham jamane bhar ke
Muskuraate huye saamne jab maa aati hai

तारीफ शायरी, tareef shayari | uff ye labon ki laali|उफ़ ये लबों की लाली

Image
Uff ye labon ki laali
Tauba ye tabassum ka qeher
.
.
Julfon me chhipa shab ka dariya
Aankho me hai noor e seher

तस्वीर हो मुखातिब तो बात बन जाये| तस्वीर शायरी, tasveer shayari|mulaqaat shayari

खाली है दिल खयालों मे तेरी आहट
तुम रूबरू हो तो मुलाक़ात बन जाये


मैं लफ़्ज़ों में ढूंढता हूँ तारीफ का जरिया
तस्वीर हो मुखातिब तो बात बन जाये

......

Khali hai dil khayaalon me teri aahat
Tum rubroo ho to mulaqaat ban jaaye
.
.
Main lafzon me dhundta hun tarif ka jariya
Tasveer ho mukhatib to baat ban jaaye

तेरी मोहब्बत का मैं कर्जदार पहले भी था अब भी हूँ , teri mohabbat ka main karjdaar phle bhi tha ab bhi hun| aashnaai shayari,sad shayari

तेरी मोहब्बत का मैं कर्जदार
पहले भी था अब भी हूँ

किया जो इश्क़ तुझसे करके
उस गुनाह का गुनहगार
पहले भी था अब भी हूँ

मैं अब भी लरज़ जाता हूँ
मुश्किल से सम्भल पाता हूँ

आबाद था तेरी आशनाई से
तेरी बेरुखी से बरबाद
पहले भी था अब भी हूँ

ना लिखा कहीं ख़ता क्या रही
ना बात कुछ पता क्या रही


अधूरी जो रह गई कहानी
उस कहानी का किरदार
पहले भी था अब भी हूँ

तेरी मोहब्बत का मैं तलबगार
पहले भी था अब भी हूँ


आशनाई- दोस्ती, प्रेम

.......

Teri mohabbat ka main karjdaar
Phle bhi tha ab bhi hun

Kiya jo ishq tujhse karke
Us gunah ka gunahgaar
Phle bhi tha ab bhi hun

Main ab bhi laraz jata hun
Muskil se sambhal pata hun

Aabaad tha teri aashnaai se
Teri berukhi se barbaad
Phle bhi tha ab bhi hun

Na likha kahin khata kya rahi
Na baat kuch pata kya rahi

Adhuri jo rah gai kahani
Us kahani ka kirdaar
Phle bhi tha ab bhi hun

Teri mohabbat ka main talabgaar
Phle bhi tha ab bhi hun




Copyright©merishayri2020sunilsharma, all rights reserved






तुम जो करते हो दिल्लगी है प्यार नहीं है,Ishq shayari, इश्क़ शायरी

कितना किया कब किया किस से किया
ना रखो हिसाब ये इश्क़ है व्यापार नही है


करे जो इश्क़ कोई खुदा मानकर तुम्हे
बशर वो मासूम बहुत,अय्यार नहीं है


करते हो तकल्लुफ़ क्यूँ मोहब्बत है अगर
कहते हो आतिश ए इश्क़ तय्यार नहीं है


मालूम नहीं इश्क़ का फलसफा शायद
तुम जो करते हो दिल्लगी है प्यार नहीं है




बशर - human being
अय्यार - clever
फलसफा -philosophy, ज्ञान
आतिश - fire, आग

.............
Kitna kiya kab kiya kis se kiya
Na rkho hisaab ye ishq hai vyapaar nhi hai

Kre jo ishq koi khuda maankar tumhe
Bashar wo masoom bahut ayyar nhi hai

Karte ho taqalluf kyun mohabbat hai agar
Kahte ho aatish e ishq tayyar nhin hai

Maloom nhi ishq ka falsafa shayad
Tum jo krte ho dillagi hai pyar nhi hai








वस्ल की रात vasl ki raat

माना कि मुश्किल है सफर नही आसान
आएंगे कई इम्तेहान होगी हिज्र की बात 


मुमकिन है दूरी भी होगी दरमियां कभी
आएगी यक़ीनन मगर वस्ल की रात


वस्ल- मिलन
हिज़्र - जुदाई

.........
Maana ki muskil hai safar nhi aasan
Aayenge kai imtehan hogi hizr ki baat

Mumkin hai duri bhi hogi darmiyan kabhi
Aayegi yakeenan magar vasl ki raat






©merishayri 2020sunil sharma, all rights reserved

Deshbhakti shayri, patriotism shayri

थम ना पायेगा कारवाँ ए अहल ए वतन कभी वतन पर फिदा दीवाने यहाँ नौजवान कम नहीं

वतन से की है मोहब्बत वतन के हैं आशिक हम                आशिकी में हमारी अब, चली जाए जान ग़म नहीं

..............
Tham na paayega kaarwan e ahal e vatan kabhi
Vatan par fida dewaane yahan naujawan kam nhin

Vatan se ki hai mohabbat,vatan ke hai aashiq ham
Aashiqi me hamari ab, chali jaaye jaan gham nhin


© merishayri2020 sunil sharma, all rights reserved

तुम क्या जानोगे मेरे दिल मे क्या है| shayari on dil, दिल शायरी

तुम क्या जानोगे मेरे दिल मे क्या है
खाली मकां है या कोई रहता यहाँ है

मेहमां बन के आये मुसाफिर बहुत
रहने को हमेशा,कोई आता कहाँ है

आती कहाँ बहार खिज़ाओं मे कभी
खुद ही बना बाग, खुद ही बागबाँ है

साहिल से महरूम हो जैसे लहरे
आबशार ये सूखा,बिन पानी बहा है

अब ये दिल नही बयाबान है कोई
बामुश्किल् परिंदा कोई, जाता जहाँ है


खिज़ा - पतझड़
बागबाँ- माली
महरूम- वंचित
बयाबां - उजाड़, सुनसान जंगल
आबशार - झरना

..........

Tum kya jaanoge mere dil me kya hai
Khali makan hai ya koi rahta yahan hai

Mehman ban ke aaye musafir bahut
Rahne hmesha koi aata kahan hai

Aati kahan bahaar kabhi khizaon me kabhi
Khud hi bana baag khud hi baagban hai

Sahil se mahroom ho jaise lahre
Aabshaar ye sukha, bin paani baha hai

Ab ye dil nhin bayabaan hai koi
Bamuskil parinda koi, jata jahan hai





©merishayri2020 sunil sharma, all rights reserved


















दिल का नगर खाली नहीं होता | shayari on dil, दिल शायरी

उठा दिया करो तुम भी कभी हाथ अर्ज करने के लिए
कि हर बार तारीफ का जरिया ताली नही होता

चले जाओ उठकर महफ़िल से बेशक मग़र सुन लो
किसी एक के चले जाने से दिल का नगर खाली नहीं होता 

©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

कभी चाँद था मिशाल ए खूबसूरती मेरी नज़र मे,shayari on chaand, चाँद शायरी

उनकी सोहबत ने है बख्शी ये कैसी खुदाई
तौबा कलम से करने की है नौबत आई


कभी चाँद था मिशाल ए खूबसूरती मेरी नज़र मे
अब दो आँखों पर लिख देता हूं सैकड़ो रुबाई


सोहबत - संग, साथ
रुबाइ - 4 line poetry


©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

खो गया वो मेरा हमनफस दुनियां की भीड़ में, हमनफ़स शायरी, Hamnafas shayari

खो गया वो मेरा हमनफस दुनियां की भीड़ में
बन के रह गया अधूरी कहानियों का हिस्सा

रो देता है आलम ऐ तन्हाई में अक्सर दिल
याद जब आता है गुजरी हुई जिंदगी का किस्सा 


©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Sad shayri

क्या तुमने मुझे समझा है कभी,क्या तुमने मुझे है जाना
क्या तुमने कभी झाँका मुझमे, क्या तुमने मुझे पहचाना


मैं जर्द हुआ जाता ग़म मे, मैं सुर्ख हुआ जाता हमदम
इस हाल मे ना तु छोड़ मुझे, मैं दुनिया से बेगाना


हालात मेरे बदतर ना थे  ,ना तुझसे था याराना
अब देख भी ले कुछ याद तुझे, क्या था मेरा अफसाना


ना कसमें थी ना वादे थे ,ना था कोई साथ निभाना
तुझसे मिलने से पहले था ,मै भी खुशहाल दीवाना



©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Love shayri

Image

Valentine's Day shayri

दिन बा दिन बढ़ता रहा, वक़्त इंतज़ार का
फिर आ के फरवरी पे अटका , मामला इकरार का


ना मौसम का मोहब्बत से ताल्लुक़, ना राब्ता इज़हार का
फिर रहा दरमियां बाकि, मुद्दा क्या तकरार का



मान ले अब इल्तेज़ा, ले फरवरी भी आ गई
बस भी कर अब खत्म कर दे ,सिलसिला इनकार का




राब्ता -   relation, connection
इल्तेज़ा - request


©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Khushnavar shayri

मैं था नेक बंदा ना खोया कभी किसी  खयाल मे 
मैं ना रोया था ग़म ऐ उल्फत में कभी, ना किसी हाल में


चढ़ा  है जब से नशा खुशनवारी का साहेब
उलझ के रह गया हूँ अपने ही लफ़्ज़ों के जाल में

खुशनवारी -   writing shayri , poem, etc
उल्फ़त -   love


©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Izhar shayri

रुसवा है आँखो के इशारे मोहब्बत की गली में
लाजिम है इश्क़ मेरे यार का जुबां से बयां हो

खामोशी हो दरमियां वक़्त ए इज़हार मगर
चेहरे पे गुलाबों सी हंसी और आँखों में हया हो



©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Dosti shayri

ना वो आफरीन अंदाज ना वो रवायतें
ना दोस्तों की नवाजिश ए मुलाक़ात रही

मुख्तसर होती रही बाते दिन ब दिन
ना खाली दिन ना सुकून भरी रात रही

ना कभी मिलना ना मिल के झगड़ना
ना पहले सा हुज़ूम ना वो जमात रही

यूँ तो कहने को आया करते है रोज मगर
ना इस महफ़िल मे पहले वाली बात रही


मुख्तसर -  short, brief
आफरीन - alluring
नवाजिश - kindness
 हुजूम - gathering, crowd


©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Dosti shayri

हो कर मशरूफ  कश्मकश ए हयात मे
बेखबर बेसबब किस उलझन मे फंसा हूँ


मिल गए कुछ यार कूचा ए रोजगार मे
आज एक मुद्दत बाद मैं खुल के हंसा हूँ


हयात- जिंदगी, life
मशरूफ - व्यस्त, busy
बेसबब - बेवजह

©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Izhaar shayri, propose shayri

करता रहा इकतरफा मोहब्बत अरसों से अब लगा चुपचाप करने मे मजा क्या है
र दिया है बयां हाल ए दिल सरेआम
इकरार है या इनकार, तेरी रज़ा क्या है


इकरार- acceptance, स्वीकार
रज़ा- मर्जी

©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Raat shayri

रात, चांद ,तारे और तन्हाई
अधूरे ख़्वाब, अधूरी रुबाई

लाज़िम है तसव्वुर में आये
मेरी मोहब्बत , मेरी जुदाई  


©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Shayri

चर्चा तेरे हुस्न का है महज, कूचे मे
वाक़िफ़ तेरी फितरत से मगर सब है

सौ बार की है मोहब्बत तुमने करने को
इक बार भी है याद निभाई कब है?



©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Mulaqaat shayri

एक नज़र देख के रहा ना दिल पे काबू
आईने सा चेहरे पे कमाल क्या खूब था

खत्म हुई तलाश मुलाक़ात पे आ कर
निगाहें उठाई और सामने महबूब था  

©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Love shayri

मुमकिन नही हिज्र तेरा भूल पाना तू और तेरी चाहत दोनो एक सी है

चाहूँ तो कर लूँ तौबा तेरे दर से मगर                              तेरी लत और ये मोहब्बत दोनो एक सी है

हिज़्र - separation, जुदाई


©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Shayri

Image
जानिब-   direction, side, ओर, तरफ
रहबर - guide, मार्गदर्शक
जुस्तजू -   quest, खोज, तलाश

©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Tareef shayri

मीर की ग़ज़ल हो या शायर का ख़ाब हो तुम ?
शबनम की बूँद हो या नूर ऐ आफताब हो तुम ?
.
.
सज संवर के यूँ निकली हो गिराई है बिजलियाँ
नींदों को उड़ाने वाली हसीना लाजवाब हो तुम

©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

chand shayri

Image
©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

बारिश

कभी बूंद बूंद को तरसाया कभी दरख़्त दीवारों को तोड़ा
ना मैं खुद झुका ना रुख हवाओं का मैंने मोड़ा
.
.
अंदाज इसका भी है कुछ कुछ मेरे महबूब सा
बिन मौसम की इस बरसात ने मुझे कहीं का ना छोड़ा


©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

शाम शायरी

शाम ही से शुरू होता है यादों का सिलसिला
शब होते होते पुर जोर रवानी पे आता है

हसरतें बढ़ती है दीदार ऐ यार की फिर
सहर होने से दिल को सुकून आता है

©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

हश्र शायरी

Image
©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Seher shayri

Image
©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

जिक्र शायरी, zikr shayari, ibaadat shayari, इबादत शायरी

मुमकिन नही हर ख़्वाब मुकम्मल होना
अधूरे ख्वाबों का जिक्र इबादत में होता है
.
होता नही ग़र हासिल कुछ इबादतों से
टूटे ख़्वाबों का जिक्र ज़ियारत में होता है


Mukammal- complete
Ibadat-pray
Jiyarat-  religious journey

©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Mohabbat shayari, मोहब्बत शायरी

लिखकर मिटा देता हूँ तुझको अपने जेहन से     बेहतर खयाल की तलाश दिन रात करता हूँ

कोई यूँ ना समझे कि मोहब्बत हुई है किसी से मैं शायर हूँ और शायरी की बात करता हूँ 

©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Shayari on chaand, चाँद पर शायरी

वो कहता है चाँद में भी दाग़ है सुनील
मग़रूर इतना है अकड़ में मदहोश है


ग़ुरूर चाँद का है मुनासिब अगर मेरी मानो
तुम दाग़ ही देखते हो तुम्हारा दोष है   

©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Tanhaai shayari, तन्हाई शायरी

थम गया वक्त,थम गया बातों का सिलसिला
ना मंजिल है ना मजलिस ए यार कोई बाकि है

निकल पड़ा हूँ रात की खामोशियों में अकेले
ना साथ रहबर है ना मददग़ार कोई बाकि है

©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

उल्फ़त शायरी, ulfat shayari

चन्द तस्वीरों में है बाकि उल्फत के निशां
किताबों में सूखा कोई गुलाब मेरे पास नहीं

सबब खुद ही बना अपनी तबाही का मैं
इल्जाम तुझ पे कोई आये मुझे रास नहीं


©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

बेनयाजी शायरी, Beniyazi shayari

गुजरती बेनयाज़ी मुझे नागवार उसकी
उसे पसन्द नहीं मेरा हद से गुजर जाना

आया नही इश्क़ हदों में करना मुझको
उसे आता था करके किनारा गुजर जाना 

©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

इश्क़ लाइलाज कितना, ishq laailaaz kitna

होती नही रात खलिश में बसर
नश्तर सी चुभन है, सुआ कोई लगे

मत पूछ इश्क़ लाइलाज कितना
बेअसर दवा  ना दुआ कोई लगे


©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

गर्दिश शायरी, gardish shayari

भूल जाओ बेशक मुझे ए सनम
तर्क ऐ ताल्लुक़ ये बड़ी बात नही

नज़ारे और भी है बहुत दुनिया में
सितारे गर्दिश में हैं खफ़ा रात नहीं


©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

जज्बात शायरी, jazbaat shayari

नाहक है उम्मीद किसी से करना
बर्बाद यूँ ना अपने जज्बात कर

बना ले अपनी अलग दुनिया सुनील
वक़्त खुद से मिले तो किसी से बात कर 

©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

हश्र शायरी, hashra shayari

मुझ पर है नवाज़िशें मेरे रब की बेशुमार
दे के वो दर्द पूछता है क्या गिला है

सब जानकर भी बेखबर है मेरे हश्र से
क्या यही मेरी बंदगी का सिला है

©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

उम्मीद ए वफा शायरी , ummeed e wafa shayari

मालूम था फ़ितरत है उनकी बेवक्त चले जाना
सब जानकर भी ,क्यूँ मैं खुद ही पे जफ़ा करता

हासिल था उल्फत में फ़क़त ग़म ही सुनिल
किसी कातिल से जो मैं उम्मीद ऐ वफ़ा करता

©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Ulfat shayari उल्फ़त शायरी

नहीं था उल्फत का इरादा ना सही
ये तो महज चाहत की बात थी


जरा सी बात पर सर पे उठा ली दुनिया तुमने
कुछ और होता तो क्या बात थी 

©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Shaam shayari, वो इक शाम जो गुजरी थी रफाकत में कभी

वो इक शाम जो गुजरी थी रफाकत में कभी
फिर ना आएगी लौट कर इतना तो तय है

झील में खेलती कश्ती और मांझी का जुनूँ
संभल गया तो पानी है जो बहका तो मय है 

©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

जलता है चाँद भी जुगनू से भला | inspirational shayari | wajood shayari

जलता है चाँद भी जुगनू से भला
रोशन जुगनू से कहाँ रात होती है

सवाल रोशनी का रहा अपनी जगह
फर्क पड़ता है वजूद की जहाँ बात होती है 


©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

आदत इबादत की मेरी जाती नहीँ

आदत इबादत की मेरी जाती नहीँ
हद से ज्यादा दिल्लगी मुझे भाती नही

जुस्तजूँ बस इक तेरी है और एक तू है
जो जाती है तो लौट के आती नही


©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved