बारिश

कभी बूंद बूंद को तरसाया कभी दरख़्त दीवारों को तोड़ा
ना मैं खुद झुका ना रुख हवाओं का मैंने मोड़ा
.
.
अंदाज इसका भी है कुछ कुछ मेरे महबूब सा
बिन मौसम की इस बरसात ने मुझे कहीं का ना छोड़ा


©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Comments

Popular posts from this blog

वस्ल की रात vasl ki raat

Valentine's Day shayri

Sad shayri