वस्ल की रात vasl ki raat

माना कि मुश्किल है सफर नही आसान
आएंगे कई इम्तेहान होगी हिज्र की बात 


मुमकिन है दूरी भी होगी दरमियां कभी
आएगी यक़ीनन मगर वस्ल की रात


वस्ल- मिलन
हिज़्र - जुदाई

.........
Maana ki muskil hai safar nhi aasan
Aayenge kai imtehan hogi hizr ki baat

Mumkin hai duri bhi hogi darmiyan kabhi
Aayegi yakeenan magar vasl ki raat






©merishayri 2020sunil sharma, all rights reserved


Comments

Popular posts from this blog

Sad shayri

कभी चाँद था मिशाल ए खूबसूरती मेरी नज़र मे,shayari on chaand, चाँद शायरी

Valentine's Day shayri