Posts

Showing posts from March, 2020

मर्ज शायरी, दहशत शायरी, वहशत शायरी | marj shayari, dahshat shayari, vahshat shayari

Image
मर्ज तेरे इश्क़ का भी था जानलेवा मगर
मंजर हसीन था इस कदर वहशत नहीं थी 


आई थी क़यामत भी दौर ए इश्क़ कई दफ़ा 
खौफ़ क़ुर्बत से नहीं था दिल मे दहशत नहीं थी 


मर्ज - रोग
वहशत - पागलपन, उज्जडपन
क़यामत - प्रलय, doomsday
क़ुर्बत - नजदीकी



Marj tere ishq ka bhi tha janleva magar
Manjar haseen tha is kadar vahshat nhin thi


Aai thi qayamat bhi daur e ishq kai dafa
Khauff qurbat se nahi  tha dil me dahshat nhin thi

Aab o hawa shayari, आब ओ हवा शायरी

Image
बाद ए सबा - winds of morning
मयस्सर -  available
.
.

 Ajnabi hai is sheher ki aab o hawa
Mere chaahne wale shayad kahin or rhte hai



Yahan sukun hai baad e saba bhi hai mayassar
Dil ko jalaane wale shayad kahin or rahte hai

Hayaat shayari | हयात शायरी

गुज़र रही ग़ुमनाम सी तन्हाई मे
क्या बताएं हालात ए हयात क्या है


कभी जो देख कर भर लेते थे बाहों मे
आज दूर से पूछ रहे हैं बात क्या है

हयात - जिंदगी
........ 
Gujar rahi gumnaam sir tanhaai me Kya batayein halaat e hayaat kya hai

Kabhi jo dekh kar bhar lete the bahon me Aaj door se puchh rhe hain baat kya hai

Intezaar e Ishq shayari | इंतज़ार ए इश्क़ शायरी

Image
Haasil nhi sukoon e dil kahin
Shaame khali hai gardishon bhari shab hai


Muddat se chal rha intezar e ishq
Koi bataaye aagaaj e ishq kab hai

Barish shayari | बारिश शायरी | बरसात शायरी|barsaat shayari

चलने लगी है हवाएँ बेतहाशा आजकल
आंधियों का आना रोज का काम हो गया

तुम थे तो बरसती थी तरसा तरसा कर
तुम नहीं हो तो बारिश का आना आम हो गया 
...... Chalne lagi hai hawayein betahasha aajkal Aandhiyon ka aana roj ka kaam ho gya

Tum the to barsati thi tarsa tarsa kar Tum nahi ho to barish ka aana aam ho gaya

माँ शायरी | shayari on mother| mothers day shayari| maa shayari

टूट के गिरता हूँ फिर संभल जाता हूं उसे देख कर जाँ में जाँ आती है

भूल जाता हूं ग़म ज़माने भर के
मुस्कुराते हुए सामने जब माँ आती है

........
Toot ke girta hun fir sambhal jata hun
Use dekh kar jaan me jaan aati hai

Bhool jata hun gham jamane bhar ke
Muskuraate huye saamne jab maa aati hai