Hayaat shayari | हयात शायरी

गुज़र रही ग़ुमनाम सी तन्हाई मे
क्या बताएं हालात ए हयात क्या है


कभी जो देख कर भर लेते थे बाहों मे
आज दूर से पूछ रहे हैं बात क्या है

हयात - जिंदगी

........ 

Gujar rahi gumnaam sir tanhaai me
Kya batayein halaat e hayaat kya hai


Kabhi jo dekh kar bhar lete the bahon me
Aaj door se puchh rhe hain baat kya hai

Comments

Popular posts from this blog

Sad shayri

कभी चाँद था मिशाल ए खूबसूरती मेरी नज़र मे,shayari on chaand, चाँद शायरी

Valentine's Day shayri