Thursday, January 23, 2020

Dosti shayri

हो कर मशरूफ  कश्मकश ए हयात मे
बेखबर बेसबब किस उलझन मे फंसा हूँ


मिल गए कुछ यार कूचा ए रोजगार मे
आज एक मुद्दत बाद मैं खुल के हंसा हूँ

Tuesday, January 21, 2020

Izhaar shayri, propose shayri

करता रहा इकतरफा मोहब्बत अरसों से
अब लगा चुपचाप करने मे मजा क्या है

र दिया है बयां हाल ए दिल सरेआम
इकरार है या इनकार, तेरी रज़ा क्या है


इकरार- acceptance, स्वीकार
रज़ा- मर्जी

Sunday, January 19, 2020

Raat shayri

रात, चांद ,तारे और तन्हाई
अधूरे ख़्वाब, अधूरी रुबाई

लाज़िम है तसव्वुर में आये
मेरी मोहब्बत , मेरी जुदाई  

Saturday, January 18, 2020

Shayri

चर्चा तेरे हुस्न का है महज, कूचे मे
वाक़िफ़ तेरी फितरत से मगर सब है

सौ बार की है मोहब्बत तुमने करने को
इक बार भी है याद निभाई कब है?

Friday, January 17, 2020

Mulaqaat shayri

एक नज़र देख के रहा ना दिल पे काबू
आईने सा चेहरे पे कमाल क्या खूब था

खत्म हुई तलाश मुलाक़ात पे आ कर
निगाहें उठाई और सामने महबूब था  

Thursday, January 16, 2020

Love shayri

मुमकिन नही हिज्र तेरा भूल पाना
तू और तेरी चाहत दोनो एक सी है


चाहूँ तो कर लूँ तौबा तेरे दर से मगर                              तेरी लत और ये मोहब्बत दोनो एक सी है


हिज़्र - separation, जुदाई

Wednesday, January 15, 2020

Shayri


जानिब-   direction, side, ओर, तरफ
रहबर - guide, मार्गदर्शक
जुस्तजू -   quest, खोज, तलाश

Dosti shayri

हो कर मशरूफ  कश्मकश ए हयात मे बेखबर बेसबब किस उलझन मे फंसा हूँ मिल गए कुछ यार कूचा ए रोजगार मे आज एक मुद्दत बाद मैं खुल के हंसा हूँ ...