रंजिश




रंजिश में रही ताउम्र वफ़ा हमसे
बेवफाई बड़ी काम की निकली


नासाज़ रही मेहर ए मोहब्बत हमेशा
हर बार महज नाम की निकली 


Comments

Popular posts from this blog

वस्ल की रात vasl ki raat