मर्ज शायरी, दहशत शायरी, वहशत शायरी | marj shayari, dahshat shayari, vahshat shayari


मर्ज तेरे इश्क़ का भी था जानलेवा मगर
मंजर हसीन था इस कदर वहशत नहीं थी 


आई थी क़यामत भी दौर ए इश्क़ कई दफ़ा 
खौफ़ क़ुर्बत से नहीं था दिल मे दहशत नहीं थी 


मर्ज - रोग
वहशत - पागलपन, उज्जडपन
क़यामत - प्रलय, doomsday
क़ुर्बत - नजदीकी



Marj tere ishq ka bhi tha janleva magar
Manjar haseen tha is kadar vahshat nhin thi


Aai thi qayamat bhi daur e ishq kai dafa
Khauff qurbat se nahi  tha dil me dahshat nhin thi

Comments

Popular posts from this blog

Sad shayri

कभी चाँद था मिशाल ए खूबसूरती मेरी नज़र मे,shayari on chaand, चाँद शायरी

Valentine's Day shayri