Barish shayari | बारिश शायरी | बरसात शायरी|barsaat shayari

चलने लगी है हवाएँ बेतहाशा आजकल
आंधियों का आना रोज का काम हो गया

तुम थे तो बरसती थी तरसा तरसा कर
तुम नहीं हो तो बारिश का आना आम हो गया 

......
Chalne lagi hai hawayein betahasha aajkal
Aandhiyon ka aana roj ka kaam ho gya


Tum the to barsati thi tarsa tarsa kar
Tum nahi ho to barish ka aana aam ho gaya

Comments

Popular posts from this blog

Sad shayri

कभी चाँद था मिशाल ए खूबसूरती मेरी नज़र मे,shayari on chaand, चाँद शायरी

Valentine's Day shayri