माँ शायरी | shayari on mother| mothers day shayari| maa shayari

टूट के गिरता हूँ फिर संभल जाता हूं
उसे देख कर जाँ में जाँ आती है

भूल जाता हूं ग़म ज़माने भर के
मुस्कुराते हुए सामने जब माँ आती है

........
Toot ke girta hun fir sambhal jata hun
Use dekh kar jaan me jaan aati hai

Bhool jata hun gham jamane bhar ke
Muskuraate huye saamne jab maa aati hai

Comments

Popular posts from this blog

कभी चाँद था मिशाल ए खूबसूरती मेरी नज़र मे,shayari on chaand, चाँद शायरी

Sad shayri

Valentine's Day shayri