Raat shayri

रात, चांद ,तारे और तन्हाई
अधूरे ख़्वाब, अधूरी रुबाई

लाज़िम है तसव्वुर में आये
मेरी मोहब्बत , मेरी जुदाई  


©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Comments

Popular posts from this blog

कभी चाँद था मिशाल ए खूबसूरती मेरी नज़र मे,shayari on chaand, चाँद शायरी

Sad shayri

Valentine's Day shayri