इश्क़ लाइलाज कितना, ishq laailaaz kitna

होती नही रात खलिश में बसर
नश्तर सी चुभन है, सुआ कोई लगे

मत पूछ इश्क़ लाइलाज कितना
बेअसर दवा  ना दुआ कोई लगे


©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Comments

Popular posts from this blog

Sad shayri

कभी चाँद था मिशाल ए खूबसूरती मेरी नज़र मे,shayari on chaand, चाँद शायरी

Valentine's Day shayri