Saturday, January 11, 2020

मुमकिन नही हर ख़्वाब मुकम्मल होना
अधूरे ख्वाबों का जिक्र इबादत में होता है
.
होता नही ग़र हासिल कुछ इबादतों से
टूटे ख़्वाबों का जिक्र ज़ियारत में होता है



Mukammal- complete
Ibadat-pray
Jiyarat-  religious journey

No comments:

Post a Comment

Dosti shayri

हो कर मशरूफ  कश्मकश ए हयात मे बेखबर बेसबब किस उलझन मे फंसा हूँ मिल गए कुछ यार कूचा ए रोजगार मे आज एक मुद्दत बाद मैं खुल के हंसा हूँ ...