Tanhaai shayari, तन्हाई शायरी

थम गया वक्त,थम गया बातों का सिलसिला
ना मंजिल है ना मजलिस ए यार कोई बाकि है

निकल पड़ा हूँ रात की खामोशियों में अकेले
ना साथ रहबर है ना मददग़ार कोई बाकि है

©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Comments

Popular posts from this blog

वस्ल की रात vasl ki raat

Valentine's Day shayri