Friday, January 10, 2020

थम गया वक्त,थम गया बातों का सिलसिला
ना मंजिल है ना मजलिस ए यार कोई बाकि है

निकल पड़ा हूँ रात की खामोशियों में अकेले
ना साथ रहबर है ना मददग़ार कोई बाकि है

No comments:

Post a Comment

Dosti shayri

हो कर मशरूफ  कश्मकश ए हयात मे बेखबर बेसबब किस उलझन मे फंसा हूँ मिल गए कुछ यार कूचा ए रोजगार मे आज एक मुद्दत बाद मैं खुल के हंसा हूँ ...