Valentine's Day shayri



दिन बा दिन बढ़ता रहा, वक़्त इंतज़ार का
फिर आ के फरवरी पे अटका , मामला इकरार का


ना मौसम का मोहब्बत से ताल्लुक़, ना राब्ता इज़हार का
फिर रहा दरमियां बाकि, मुद्दा क्या तकरार का



मान ले अब इल्तेज़ा, ले फरवरी भी आ गई
बस भी कर अब खत्म कर दे ,सिलसिला इनकार का




राब्ता -   relation, connection
इल्तेज़ा - request


©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

Sad shayri

कभी चाँद था मिशाल ए खूबसूरती मेरी नज़र मे,shayari on chaand, चाँद शायरी