तुम क्या जानोगे मेरे दिल मे क्या है| shayari on dil, दिल शायरी

तुम क्या जानोगे मेरे दिल मे क्या है
खाली मकां है या कोई रहता यहाँ है

मेहमां बन के आये मुसाफिर बहुत
रहने को हमेशा,कोई आता कहाँ है

आती कहाँ बहार खिज़ाओं मे कभी
खुद ही बना बाग, खुद ही बागबाँ है

साहिल से महरूम हो जैसे लहरे
आबशार ये सूखा,बिन पानी बहा है

अब ये दिल नही बयाबान है कोई
बामुश्किल् परिंदा कोई, जाता जहाँ है


खिज़ा - पतझड़
बागबाँ- माली
महरूम- वंचित
बयाबां - उजाड़, सुनसान जंगल
आबशार - झरना

..........

Tum kya jaanoge mere dil me kya hai
Khali makan hai ya koi rahta yahan hai

Mehman ban ke aaye musafir bahut
Rahne hmesha koi aata kahan hai

Aati kahan bahaar kabhi khizaon me kabhi
Khud hi bana baag khud hi baagban hai

Sahil se mahroom ho jaise lahre
Aabshaar ye sukha, bin paani baha hai

Ab ye dil nhin bayabaan hai koi
Bamuskil parinda koi, jata jahan hai





©merishayri2020 sunil sharma, all rights reserved


















Comments

Popular posts from this blog

Sad shayri

कभी चाँद था मिशाल ए खूबसूरती मेरी नज़र मे,shayari on chaand, चाँद शायरी

Valentine's Day shayri