तेरी मोहब्बत का मैं कर्जदार पहले भी था अब भी हूँ , teri mohabbat ka main karjdaar phle bhi tha ab bhi hun| aashnaai shayari,sad shayari


तेरी मोहब्बत का मैं कर्जदार
पहले भी था अब भी हूँ

किया जो इश्क़ तुझसे करके
उस गुनाह का गुनहगार
पहले भी था अब भी हूँ

मैं अब भी लरज़ जाता हूँ
मुश्किल से सम्भल पाता हूँ

आबाद था तेरी आशनाई से
तेरी बेरुखी से बरबाद
पहले भी था अब भी हूँ

ना लिखा कहीं ख़ता क्या रही
ना बात कुछ पता क्या रही


अधूरी जो रह गई कहानी
उस कहानी का किरदार
पहले भी था अब भी हूँ

तेरी मोहब्बत का मैं तलबगार
पहले भी था अब भी हूँ


आशनाई- दोस्ती, प्रेम

.......

Teri mohabbat ka main karjdaar
Phle bhi tha ab bhi hun

Kiya jo ishq tujhse karke
Us gunah ka gunahgaar
Phle bhi tha ab bhi hun

Main ab bhi laraz jata hun
Muskil se sambhal pata hun

Aabaad tha teri aashnaai se
Teri berukhi se barbaad
Phle bhi tha ab bhi hun

Na likha kahin khata kya rahi
Na baat kuch pata kya rahi

Adhuri jo rah gai kahani
Us kahani ka kirdaar
Phle bhi tha ab bhi hun

Teri mohabbat ka main talabgaar
Phle bhi tha ab bhi hun




Copyright©merishayri2020sunilsharma, all rights reserved






Comments

Popular posts from this blog

Valentine's Day shayri

Sad shayri

कभी चाँद था मिशाल ए खूबसूरती मेरी नज़र मे,shayari on chaand, चाँद शायरी