Mulaqaat shayri

एक नज़र देख के रहा ना दिल पे काबू
आईने सा चेहरे पे कमाल क्या खूब था

खत्म हुई तलाश मुलाक़ात पे आ कर
निगाहें उठाई और सामने महबूब था  


©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Comments

  1. Thank you bro for this special...adbhut👌👌👌love u bhai

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

Valentine's Day shayri

कभी चाँद था मिशाल ए खूबसूरती मेरी नज़र मे,shayari on chaand, चाँद शायरी

Sad shayri