Deshbhakti shayri, patriotism shayri


थम ना पायेगा कारवाँ ए अहल ए वतन कभी
वतन पर फिदा दीवाने यहाँ नौजवान कम नहीं


वतन से की है मोहब्बत वतन के हैं आशिक हम                आशिकी में हमारी अब, चली जाए जान ग़म नहीं

..............
Tham na paayega kaarwan e ahal e vatan kabhi
Vatan par fida dewaane yahan naujawan kam nhin

Vatan se ki hai mohabbat,vatan ke hai aashiq ham
Aashiqi me hamari ab, chali jaaye jaan gham nhin



© merishayri2020 sunil sharma, all rights reserved

Comments

Popular posts from this blog

Sad shayri

कभी चाँद था मिशाल ए खूबसूरती मेरी नज़र मे,shayari on chaand, चाँद शायरी

Valentine's Day shayri