Shaam shayari, वो इक शाम जो गुजरी थी रफाकत में कभी

वो इक शाम जो गुजरी थी रफाकत में कभी
फिर ना आएगी लौट कर इतना तो तय है

झील में खेलती कश्ती और मांझी का जुनूँ
संभल गया तो पानी है जो बहका तो मय है 

©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Comments

Popular posts from this blog

वस्ल की रात vasl ki raat

Valentine's Day shayri