Insaan hi insaan ke kaam aayega | इंसान ही इंसान के काम आयेगा

क्यूँ खेल रहा है मजहबी खेल फ़ितरत से बाज़ आ अपनी
तुझे बचाने ना अल्लाह आयेगा ना कोई भगवान आयेगा



तु लाख पढ़ ले गीता कुरान नहीं आयेगा फरिश्ता कोई
बात जब जान पर आयेगी इंसान के काम इंसान आयेगा

.
.
.
 Kyun khel rha h majhabi khel fitrat se baaj aa apni
Tujhe bachaane na allaah aayega na koi bhagwan aayega


Tu lakh padh le geeta quraan nhin aayega farishta koi
Baat jab jaan par aayegi insaan ke kaam insaan aayega

Comments

Popular posts from this blog

कभी चाँद था मिशाल ए खूबसूरती मेरी नज़र मे,shayari on chaand, चाँद शायरी

Sad shayri

Valentine's Day shayri