Izhar shayri

रुसवा है आँखो के इशारे मोहब्बत की गली में
लाजिम है इश्क़ मेरे यार का जुबां से बयां हो

खामोशी हो दरमियां वक़्त ए इज़हार मगर
चेहरे पे गुलाबों सी हंसी और आँखों में हया हो



©meri shayri 2020 sunil sharma, all rights reserved

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

कभी चाँद था मिशाल ए खूबसूरती मेरी नज़र मे,shayari on chaand, चाँद शायरी

Sad shayri

Valentine's Day shayri